Saturday, March 28, 2015


दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर  गयी 
दोनों को इक ही  अदा में रज़ामंद कर गयी 

शक हो गया है सीना खुश लज़्ज़त -इ-फराज 
तकलीफ-इ-पर्दादारी-ए ज़ख्म-ए-जिगर गयी 


वो बड़ा-ए-शबाना की सरमस्तियां कहाँ है 
उठिए बस अब तक लज़्ज़त-ए- खाब-इ शहर गयी 

उड़ती फिर है ख़ाक मेरी कु-ए-यार में 
बारे अब ए  हवा हवस-ए बाल-ओ-पार गयी 

देखो तो ये दिल फरेबी-ए- अंदाज़-ए -नक्श-ए -पा 
मौज-ए-खिरम-ए-यार भी क्या गुल कुतर गयी 


हर बुला हवस ने हुस्न परस्ती शिअर की 
अब आबरू-ए-शेवा-ए-अहल-ए-नज़र गयी 

नज़र ने भी काम किया बन  नक़ाब का 
मस्ती से हर निगाह तेरे रुख पर बिखर गयी 

फ़र्दा-ओ-दिन का तफर्रुका एक मर मिट गया 
कल तुम गयी की हम पे क़यामत गुज़र गयी 

मार  ज़माने ने असद उल्लाह खान  तुम्हें 
वो वाल-वले कहाँ वो जवानी किधर गयी 

मिर्ज़ा ग़ालिब !!!



घर अपने काशी शिव आएं

घर अपने काशी  शिव आएं
भक्त अभिलाषी शिव आएं

जर्जर घाट पे बहती मैया 
इसमें चलती निर्जर नैया 
मेरे धर्म का कौन खिवैया
गंगा के निवासी शिव आएं
घर अपने काशी शिव आएं

भक्त अभिलाषी शिव आएं
घर अपने काशी  शिव आएं

दृष्टि युक्त अँधा संसार
आडम्बर का होता व्यपार
पाप का सर पे है अम्बार
सब संकट नाशी शिव आएं
घर अपने काशी शिव आएं

भक्त अभिलाषी शिव आएं
घर अपने काशी  शिव आएं


भावार्थ
२९/०३/२०१५